नवीन रचनाएँ:---


रविवार, 3 अक्तूबर 2010

नज़्म---" तुम यानी तुम से परे "


            तुम-
            जिसकी मुस्कुराहट से,
            खिली जाती हैं मेरी साँस ;
            जिस के तसव्वुर से ,
            सँवर-सँवर जाती है,
            ज़िन्दगी मेरी |

            तुम-
            धुंद की गहरी गुफा में,
            लिपटी-सहेजी,
            छुई-मुई-सी पाकीज़गी;
            दौड़ती-भागती नद्दी के,
            शोख़ पानी में तैरता,
            फूल |

            तुम-
            जिसके होने के अहसास से,
            होता है मुझे,
            ख़ुद के होने का अहसास;
            तराई में,
            चढ़ती शाम के साये में,
            बढ़ती,
            मासूम-कमसिन उदासी |

            ओ परी-रू !
            मैंने,
            हँसते फूलों पर लिक्खी हैं,
            सरगोशियाँ तेरे जिस्म की;
            आबशारों की उछालों पर,
            लिक्खे हैं बोल तेरी ख़ामुशी के |

            तुम-
            सुनो---हाँ---तुम;
            बहुत मासूम है,
            तिरी दोशीज़ ख़ूबसूरती;
            बहुत कमसिन है,
            तिरे लब की लर्ज़िश |

            मिरे तसव्वुर के जंगल में,
            तिरी आमद से,
                   आती है,
                     ख़यालों की बहार |
            तिरे होंठों से,
            नुमाया होते हैं,
                  चाँद रमूज़,
                        वक़्त-ए-रूबरू |
            कितनी मरमरी है,
            तिरे लफ़्ज़ों की छुअन,
            तिरे होंठ,
            करके कोई शरारत,
                    तान लेते हैं खामुशी,
            और,
               ये दिल मुज़्तरिब हो कर,
               कहीं कुछ ढूँढ़ता रहता है |

            तुम-
               तुम से परे-
               बहुत कुछ हो-
                        सब कुछ हो-
                        मिरी ख़ातिर |

           (रचना-तिथि:---06-05-1998)

1 टिप्पणी:

  1. तुम / जिसकी मुस्कुराहट से / खिली जाती हैं मेरी साँस ……… भाई गणेश जी आपकी मुस्कुराहट देखे काफी दिन महीने साल हो गए । अब यहां आपको देखकर सोचता हूं कि भगवान मजे में है । चित्र के बारे में कहीं मैं गलत तो नहीं सोच रहा हूं कृपया कविता को इतना स्पष्ट भी ना करें । आभार कि ऐसे दर्शन तो हुए, कभी मुलाकात भी होगी ।

    उत्तर देंहटाएं