नवीन रचनाएँ:---


सोमवार, 6 सितंबर 2010

" तुम्हारी याद "

मुस्कुराहट---
                सुबुह के सूरज की 
                बादलों के बीच;
                जिस की ख़ातिर 
                जागता हूँ ,
                            सारी रात---मैं |

ललाई---
              जाते दिन की 
              बिछड़े बादलों के बीच;
              जिस की ख़ातिर 
              काटता हूँ ,
                          सारा दिन---मैं |
मेरे वजूद का 
पोर-पोर है---
              तुम्हारी याद | |
             (रचना-तिथि:---22-08-1998)





3 टिप्‍पणियां:

  1. क्या बात है सर.... बहुत ही उम्दा रचना...

    जय श्री राम...

    उत्तर देंहटाएं
  2. सरल और सुन्दर.. अच्छा लगा...

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुंदर भावों को पिरोया है यादों के बहाने।

    हिन्दी का प्रचार राष्ट्रीयता का प्रचार है।

    हिंदी और अर्थव्यवस्था, राजभाषा हिन्दी पर, पधारें

    उत्तर देंहटाएं