नवीन रचनाएँ:---


शनिवार, 11 सितंबर 2010

" हाँ,ये नहीं हुआ "

मैं---
       नहीं करता शिकवा
                    वक़्त से |
       नहीं हूँ नाराज़
               किस्मत से |
       रूठा नहीं हूँ
                भगवान् से |
मैंने---
         इन से तो नहीं माँगा था
                       तुम्हें |
मैंने---
          तुम से माँगा था
                         वक़्त,
          तुम से चाही थी
                     क़िस्मत,
    तुम से पाना चाहा था
                     भगवान्;
मैंने---
          तुम्हें माँगा था | 



(रचना-तिथि:---22-08-1998 )

4 टिप्‍पणियां: