नवीन रचनाएँ:---


सोमवार, 13 सितंबर 2010

" एक कविता अटल जी के लिए "

( यह कविता शुचितापूर्ण राजनीति के अंतिम स्तम्भ श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी के नाम है | भारतमाता को सदैव इस बात का मान रहेगा कि इस ने ऐसे सपूत को जन्म दिया | मुझे गर्व है कि मैंने इस दौर में जन्म लिया है और अटल जी को देखा है | अभी यह कविता यहाँ टाइप करने की गति बहुत धीमे है,क्योंकि आँखें बार-बार छलछला रही हैं और इन्हें बार-बार पौंछना पड़ रहा है | पता नहीं क्यों | कह नहीं सकता कि ईश्वर को अब क्या मंजूर है ?अफ़सोस तो सिर्फ़ इस बात का है कि अटल जी अब राजनीति को किनारे कर चुके हैं | ईश्वर इन का साया हमारे सर पे सदा रखे | यह रचना श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी के प्रधानमंत्रित्व-काल में ११ व १३ मई,१९९८ के 'पोकरण-२' के तत्काल लिखी गयी थी | राष्ट्रीय गर्व के इस अवसर पर 'चीन में बरसात होने पर प.बंगाल-केरल में नहाने वाले' 'उलटेमार्गियों' ने मुँह सिल लिया तो गांधी बाबा का नाम ले-ले कर मरे जाने वाले भी अपनी भूमिका पर प्रश्न-चिह्न लगवा बैठे | )
 
                                                ऐ मेरे वतन के लोगो !सुनो,
                                                आँखों में भर लो अंगारे,
                                                तपती-जलती भारतमाता ,
                                                आओ,फिर से तुम्हें पुकारे | |

                                                आज उठा लो सिर,के मुल्क,
                                                की शान बढ़ानी है दुनिया में,
                                                पोकरण के झटकों से पेट में,
                                                मरोड़ उठी है दुनिया के;
                                                अब वक़्त वो आ पहुँचा है,
                                                भीख मांगना बंद करें हम,
                                                थोड़े-से आसरे की ख़ातिर,
                                                यां-वां झाँकना बंद करें हम;
                                                अमरीका ना होगा तो क्या,
                                                भूखों मर जाएँगे हम ?
                                                वक़्त मुक़ाबिल है अपने,
                                                ख़ुद को साबित कर देंगे हम;
                                                आज हमें है गर्व,प' न उन को,
                                                जो साम्यवादी कहाते हैं,
                                                जो माथे की जूठन खाते हैं,
                                                और मुँह का झूठ पचाते हैं;
                                                राष्ट्र-गर्व के इस मौक़े पर,
                                                उन के मुँह क्यों बंद ही रहे,
                                                ओ बरसों के देशद्रोहियो !
                                                शब्द गर्व के क्यों ना कहे ?
                                                रखो याद हे देशवासियो !
                                                इन्हें कभी न माफ़ करना,
                                                भारतमाता के इस कलंक को,
                                                मौक़ा मिलते ही साफ़ करना;
                                                कुर्सी के दानव चुप हैं पड़े,
                                                कोई उलटा-सीधा कहता है,
                                                'पोकरण' की हिम्मत है उसकी,
                                                जिस में राष्टवाद हर पल बहता है,
                                                जो देता है राष्ट्रवाद के साथ,
                                                सदा से अपना ही ये परिचय'
                                                "हिन्दू तन-मन,हिन्दू जीवन,
                                                 रग-रग हिन्दू मेरा परिचय | | "

3 टिप्‍पणियां:

  1. अच्छी पंक्तिया लिखी है आपने ...

    इसे पढ़कर अपनी राय दे :-
    (आपने कभी सोचा है की यंत्र क्या होता है ....?)
    http://oshotheone.blogspot.com/2010/09/blog-post_13.html

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी भावनाओं कि कद्र करते है.

    उत्तर देंहटाएं