नवीन रचनाएँ:---


मंगलवार, 21 सितंबर 2010

नज़्म---" मेरा अपना आप "

तेरे तमाम तसव्वुरात के सायो को ओढ़े,
मेरी सुनहरी तमन्नाएँ,
                     कड़ी हैं ज़िन्दगी के बियाबां में |
हर सू तेज़ है नाउम्मीदी की धूप,
वीरानिओं के परबत हैं,
पत्थरों पे रेंगते,
लफ़्ज़ों के लिबास ओढ़े,
                    मिरे जज्बे,
छिल गए हिन् इन कछुओं के पाँव;
लहू तो खैर अब,
            रहा ही नहीं |
तिरे बग़ैर नातमाम है,
            ये जिंदगी,
क्यूं के,
         तू मेरा अपना आप है |


(रचना-तिथि:---28-06-1995)

2 टिप्‍पणियां: