नवीन रचनाएँ:---


रविवार, 12 सितंबर 2010

" मौत '

मौत---
          साँसों के सफ़र में,
          ज़िन्दगी के मुसाफ़िर की मंज़िल |

मौत---
          मेरी ग़ज़ल का मक्ता,
          जिस में मेरा नाम लिखा है |

मौत---
          दिन डूबे बाद,
          बिच्छूपत्ती का फूल |

मौत---
          दिलबर की,
          आँखों की नीली झील |


 (रचना-तिथि:---21-08-1994 ) 

2 टिप्‍पणियां:

  1. मौत ...दिलवर की आँखों की नीली झील ....बहुत खूब .

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति के प्रति मेरे भावों का समन्वय
    कल (13/9/2010) के चर्चा मंच पर देखियेगा
    और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा।
    http://charchamanch.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं