नवीन रचनाएँ:---


गुरुवार, 16 सितंबर 2010

ग़ज़ल:--- " इस में भी कोई बात है "

ख़्याल ही की बात है
तेरा मेरा साथ है

यां पहले भी रात थी
यां अब भी रात है

ये बिखरी-बिखरी ज़िन्दगी
जाने किस की सौग़ात है

तुझ को भूल जाएँ हम
ये भी कोई बात है ?

ग़म का झुरमट छाया है
अश्क़ों की बरसात है

पहले भी में तन्हा था
अब भी कौन साथ है

आज चुप-चुप है 'कुमार'
इस में भी कोई बात है


(रचना-तिथि:---05-06-1993 )

4 टिप्‍पणियां:

  1. क्या आपने हिंदी ब्लॉग संकलक हमारीवाणी पर अपना ब्लॉग पंजीकृत किया है?


    अधिक जानकारी के लिए क्लिक करें.
    हमारीवाणी पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि

    उत्तर देंहटाएं
  2. पहले भी में तन्हा था
    अब भी कौन साथ है

    बहुत ही बढ़िया लिखा है आपने ....

    इसे भी पढ़े :-
    (आप क्या चाहते है - गोल्ड मेडल या ज्ञान ? )
    http://oshotheone.blogspot.com/2010/09/blog-post_16.html

    उत्तर देंहटाएं