नवीन रचनाएँ:---


मंगलवार, 28 सितंबर 2010

ग़ज़ल---" मन का रिक्त शिवाला है "

                         मैंने    दर्द   को   पाला है
                         हर  घाव मिरा निवाला है

                         जब से किसी की मूरत रूठी
                         मन  का  रिक्त  शिवाला है

                         तेरा  नाम  लिखा  जिस पे
                         वो  पन्ना आज निकाला है

                         समय  का  पतझर ले डूबा
                         अब बाग़ कहाँ हरियाला है

                         कभी बना था रेत का दरिया
                        'कुमार'  आज  हिमशाला है

                                     (रचना-तिथि:---28-11-1997)

2 टिप्‍पणियां:

  1. जब से किसी की मूरत रूठी
    मन का रिक्त शिवाला है
    तेरा नाम लिखता जिस पे
    वो पाना आज निकाला है
    बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खूबसूरत गज़ल ..

    समय का पतझर ले डूबा
    अब बाग़ कहाँ हरियाला है
    कभी बना था रेत का दरिय
    'कुमार' आज हिमाशाला है

    सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं